OPD is Available on Monday & Tuesday Every week. Video Consultations by Planet Ayurveda Experts are Available. Click here To Book Your Slot Now !!


फैटी लिवर के लिए डाइट प्लान

सुबह 5:30 बजे: सबसे पहले: 1-2 गिलास गुनगुना पानी पियें। तत्पश्चात नित्य कर्म से निवृत होने के लिए जायें।

सुबह 6:00 बजे: खाली पेट: 4-5 बादाम (रात भर भिगोए हुए व छिलका रहित) / 1 चम्मच मेथी दाना 1 गिलास पानी में रातभर भिगोए और सुबह उठकर सिर्फ पानी को पिये / घृतकुमारी रस या आँवला रस 20 मि.ली. आधा कप पानी में मिलाकर पिए।

सुबह 6:15 बजे: 30-45 मिनट सैर, 30 मिनट (दैनिक व्यायाम, योग, ध्यान)

सुबह 8:00 बजे: नाश्ता: ओट्स (मौसमी सब्जियों के साथ समृद्ध) / उपमा / सुजी या बेसन चीला / इडली (मौसमी सब्जियों के साथ समृद्ध) / दलिया (मौसमी सब्जियों के साथ समृद्ध) / सब्ज़ी वाला सैंडविच (भूरी ब्रेड, विभिन्न अनाज की ब्रेड, मेयोनेज़ और सॉस के बिना) / 2 उबले हुये अंडे (सफेद भाग) / 2 गेहूँ की रोटी + सब्जी या दाल / ताजा दही / मूँग दाल खिचड़ी

दोपहर 11:00 बजे: मध्य भोजन: सत्तू / छाछ / मट्ठा (बिना फ़िल्टर, नमकीन) / हर्बल चाय (जीरा, धनिया और सौंफ प्रत्येक १ छोटा चम्मच २ कप पानी में उबालें १ कप बचने पर छाने और पिये) / हरी चाय / हरा नारियल पानी / फल

दोपहर 1:00-2:00 बजे: लंच: दोपहर के भोजन से पहले हरी सलाद का 1 कटोरा खाए. 2 मिस्सी रोटी (चने के आटे और गेहूं के आटे से निर्मित रोटी) / 2 गेहूँ की रोटी / दाल / सब्जी / दही / चावल / मूँग दाल खिचड़ी

शाम 5:00 बजे: फल / भुना हुआ चना / हर्बल चाय / हरी चाय / हरा नारियल पानी

रात 8:00 बजे: डिनर: सब्जियों का सूप / फल / सलाद / उबली हुई सब्जियां

या

2 मिस्सी रोटी (चने के आटे और गेहूं के आटे से निर्मित रोटी) / 2 गेहूँ की रोटी / दाल / चावल / सब्जी / मूँग दाल खिचड़ी

सब्जियाँ जो खानी चाहिए:

करेला, लौकी, टिण्डा, तोरी, कद्दू, गाजर, चुकंदर, लहसुन, पालक, सरसों का साग, ब्रोकोली, पत्तागोभी, फूलगोभी, शकरकंद, आलू, करम साग, टमाटर, प्याज, अदरक, मशरूम

सब्जियाँ जो नहीं खानी चाहियें:

डिब्बाबंद सब्जियां और सब्जियों का रस

फल जो खाने चाहियें:

सेब, एवोकैडो, अंगूर, नींबू, काग़ज़ी नींबू, आम, खुमानी, तरबूज, संतरा, पपीता, अमरुद, अनानास

नॉन वेज जो ले सकते हैं:

दुबला मांस, मैकेरल की तरह शीत पानी की मछलियों, सैल्मन, हेरिंग और चिकन, अंडे का सफेद भाग । नॉन वेज का प्रयोग बहुत कम मात्रा में करे, 15 दिन में एक बार लें, वो भी सिर्फ (ग्रिल्ड, भुना या उबला) हुआ लें।

नॉन वेज जो हानिकारक हैं:

भेड़ का माँस, भुनी हुई मछली, डिब्बाबंद मछली, मेमने का मांस, सूअर का मांस, चिकन

दालें जिनका प्रयोग करना चाहिए:

मूंग दाल, मसूर दाल, हरी मूंग दाल

दालें जिनका प्रयोग कम मात्रा में करना चाहिए:

राजमा, सफेद चना, काली दाल

मसाले जिनका प्रयोग करना चाहिए:

हल्दी, काली मिर्च, जीरा, धनिया, सौंफ़, अजवायन

मसाले जिनका प्रयोग नहीं करना चाहिए:

ज्यादा नमक, लाल मिर्च

अन्य उत्पाद जिनका प्रयोग करना चाहिए:

हर्बल चाय, जैतून का तेल, बाजरा, भूरी ब्रेड, भूरे चावल, चोकरयुक्त गेहूँ, चोकरयुक्त गेँहू का पास्ता, अलसी के बीज, अण्डे का सफेद भाग, ओट्स

अन्य उत्पाद जिनका प्रयोग नहीं करना चाहिए:

मक्खन, मदिरा, नकली मक्खन, मायोनीज़, चिप्स, केक, पिज़्ज़ा, पाई, चीनी, मिठाई, चॉक्लेट, सॉस, फ्रोजेन अन्न, सोया सॉस, सोडा, चटनी, पापड़, आचार, चाय, कॉफी, दूध और दूध से बने उत्पाद

Share On

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Reviewed By:

Best Ayurvedic Doctor in Mohali - Dr. Vikram Chauhan

Dr. Vikram Chauhan

MD (AYURVEDA)

View Profile
Have issue with the content?

Knowledge Base

Diseases A-Z

View All

Herbs A-Z

View all
Let’s Connect
close slider

    Leave a Message

    error: Content is protected !!